द्रव्य (Matter) या पदार्थ (Substance) क्या होता है?: परिभाषा, उदाहरण|hindi


द्रव्य (Matter) या पदार्थ (Substance) क्या होता है?: परिभाषा, उदाहरण
द्रव्य (Matter) या पदार्थ (Substance) क्या होता है?: परिभाषा, उदाहरण|hindi

द्रव्य (Matter) की परिभाषा
ब्रह्माण्ड के दो प्रमुख अवयव होते हैं - द्रव्य और ऊर्जा। ब्रह्माण्ड के इन अवयवों का अनुभव हम अपनी ज्ञानेन्द्रियों (आँख, कान, नाक, जिह्वा, हाथ तथा त्वचा) की सहायता से करते हैं। मेज, कुर्सी, पत्थर, वृक्ष, मिट्टी व बर्तन आदि का अनुभव हम आँखों से देख कर या हाथों से छूकर करते हैं। ध्वनि का अनुभव हम कानों से करते हैं। ऊष्मा का अनुभव त्वचा से होता है। वायु का अनुभव हम आँखों से देख कर या हाथों से छूकर नहीं करते हैं परन्तु जब वायु चलती है तो पत्ते हिलते हैं तथा वायु का अनुभव होता है। मुँह से फूँक कर हम गुब्बारे में हवा भरते हैं। यह प्रयोग भी हमें वायु का अनुभव कराता है। ध्यानपूर्वक विचार करने पर हम यह पाते हैं कि ब्रह्माण्ड के उपरोक्त अवयवों में से कुछ अवयव ऐसे हैं जो स्थान घेरते हैं तथा जिनमें भार होता है। ब्रह्माण्ड के इन अवयवों को द्रव्य (matter) या पदार्थ (substance) कहते हैं।

द्रव्य वह है जो स्थान घेरता है तथा जिसमें भार होता है।

उदाहरणार्थ – उदाहरण के तौर पर मेज, कुर्सी, पत्थर, वृक्ष, मिट्टी, बर्तन, जल तथा वायु आदि वस्तुएं द्रव्य के अंतर्गत आती हैं। ये सभी पदार्थ स्थान घेरते हैं तथा इनमें भार होता है। मुँह से फूँक कर गुब्बारे को फुलाने की क्रिया से हमें यह ज्ञात होता है कि वायु स्थान घेरती है। एक सरल प्रयोग द्वारा यह सिद्ध किया जा सकता है कि वायु में भार होता है। एक निर्वात पम्प की सहायता से एक फ्लास्क में भरी वायु को निकालने के बाद निर्वातित फ्लास्क (evacuuated flask) को तोलने पर यह ज्ञात होता है कि निर्वातित फ्लास्क का भार कम हो गया है अर्थात वायु में भार होता है।
उपर्युक्त उदाहरणों द्वारा हमें पता लगा सकते हैं कि पदार्थ में भार होता है तथा वह स्थान घेरती है।



No comments:

Post a Comment